सोमवार, 29 जनवरी 2018



देश आज कहा जा रहा है ? वही तो नहीं जहा गुलामी के बीज इतने गहरे और इतने प्रबल थे और हम इतने बटे हुए थे कि मुट्ठी भर लोग कही से भी आते थे और हमें लूट कर चले जाते थे और धीरे धीरे वो दिन भी आया की इतना बड़ा भूभाग और इतनी बड़ी जनसंख्या गुलाम हो गयी लम्बे समय के लिए .