Google+ Followers

बुधवार, 1 अक्तूबर 2014

बापू ये देश आप को अपनी आँखे झुका कर सलाम करता है ,अपनी सम्पूर्ण भावनाओ से आप को दुनिया का महामानव मानते हुए आप का आभार व्यक्त करता है  और आज भी आप का कर्जदार है केवल आप की मानवता और आजादी की लड़ाई के लिए ही नहीं इस बात के भी लिए की देश आप के हत्यारों की असली जिम्मेदार विचारधारा को आज भी सजा नहीं दे पाया ,उसे मिटा नहीं पाया | हम जानते है आप भटक रहे हो देखने को की आप का देश कही उस विचारधारा के पैरो तले कराहने न लगे |
बापू आप कही हम लोगो पर हंस तो नहीं रहे हो या हमारी किस्मत पर रो तो नहीं रहे हो ,कही आप को ये तो नहीं लग रहा की हम आप की विरासत को सहेज कर रख नहीं पाए ,कही हम के द्वारा सिखाई गयी सत्य और अहिंसा के मूल मन्त्र को फैला नहीं पाए ,आप के द्वारा दी गयी आजादी को जिम्मेदारियों और नागरिकता के मूल मन्त्र से सजा नहीं पाए ,आपके सत्याग्रह को लोगो के दिलो में बसा नहीं पाए |
बापू आज कही आप दर कर कही बैठ गए हो कही छुप कर की ये क्या हो रहा है और ये कौन सी साजिश है आप को फिर से मारने की की जो हर रोज पानी पी पी कर गलियां देते थे ,जिन्होंने आप को मारने की व्यवस्था किया था और फिर उसका हर्ष मनाया था और मिठाइयाँ बांटा था ये पलटी कैसे मारा उन्होंने ? सचमुच आप बहुत दहशत में होगे इस वक्त की इस बार ये कौन से मौत देने जा रहे है आप को ? अब इनका क्या इरादा है ? आज़ादी की पूरी लड़ाई में तो ये आप के खिलाफ खड़े थे और आप के बहुत से साथियों को इन्होने पकड़वाया और गवाहियाँ देकर सजा करवाया था | ज्यो ही देश आजाद हुआ ये अचानक धर्म विशेष के राज्य के पक्षधर हो गए और तांडव मचा दिया था इन्होने | जब लाखो की क़ुरबानी के बाद देश आज़ादी का जश्न मना रहा था उस वक्त ये तुम्हारे विचार की हत्या करने उतर गए थे मैदान में | जब तुम शांति करवा कर लौटे तो पैर छूने के बहाने से दाग गिया था गोली इन्होने तुम्हारे कृशकाय शरीर में |
आखिर चौकने की बात तो है बापू ,,आप भी चौंक रहे है और आप के सभी पुजारी भी चौंके है चौंका है ये तुम्हारा पूरा देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में आप को मानने वाले चौंके भी है और चौकन्ना भी है |
बापू आप विश्राम करिए ,आप ने बहुत पुरसार्थ पहले ही किया है ,उतार दिए थे अपने महंगे कपडे की जब तक यहाँ सभी के शरीर पर पूरा कपडा नहीं होगा आप एक कपडे में रहेंगे ,,देख रहे होगे आप गरीबी का मजाक उड़ाते लोगो को हर घटे बदलते कपडे और विचार ,,आप हो गए कृशकाय पर नहीं झुके उनके सामने जिनका सूरज नहीं डूबता था बल्कि उनके सूरज को पच्छिम में जाकर डूब जाने को मजबूर करा दिया ,,चाहे किसी से मिले या कही भी गए अपनी वेश भूषा में गए और अपनी शर्तो पर मिले पर तुमारी ये खुद्दारी कही दम तोड़ती दिख रही है |
पूरी दुनिया में तुम्हे सिखा दिया अहिंसा का मंत्र और हिसक लोग तुम्हे खिलौना बना कर खेलने की कोशिश कर रहे है | तोड़ दी आप ने देशो की सीमाए मानवता के सवाल पर, पर मानवता को कुचल देने का पूर्ण इरादा रखने वाले आप की भावना का मजाक उडा रहे है | आप ने लिख लिख कर जगा दिया था देश को और भगा दिया था आज़ादी के दुश्मनों को और आज लिख और बोल बोल कर लोग आप की दी गयी आज़ादी और लोकतंत्र को ग्रहण लगा रहे है |
हाँ बापू हमें याद है हमारा नारा ;;बापू हम शर्मिंदा है तेरे हत्यारे जिन्दा है ;; पर क्या करे भावनाओ में बहने वाला ये देश कभी कभी १९४७ की तरह की अफवाहों और भावनाओ में बह जाता है ,,फिर जब भी जाता है और सुधार देता है अपनि भूल को और पश्चाताप कर लेता है और फिर मजबूत हो जाता है आप का देश ,आप की दी गयी आज़ादी ,आप के सपने का लोकतंत्र ,और मानवता | पर बापू बीच बीच में ग्रहण लगता रहता है आप के प्यारे हिन्दोस्तान को | हम शर्मिंदा है बापू इस बार बार लगने वाले ग्रहण के लिए | बापू फिर भी हम आप को प्रणाम करते है आप को आप के जन्मदिन पर और बस विश्वास ही दिला सकते है की आप ने अकेले इतना बड़ा साम्राज्य पलट दिया था तो अब तो आप के मानने वालो की बहुत तादात है |
आप बस देखते रहो अपनी बेचैनी छोड़ कर हम पहरेदार बन कर खड़े है और आप के  प्यारे देश को अब गुलाम नहीं होने देंगे और दुबारा आप की हत्या नहीं होने देंगे वो चाहे किसी भी तरह करने को कोशिश हो रही हो ? आप के हत्यारे पहचाने हुए है और हमारी निगाह में है | हमें याद है आप का नारा करो या मरो ,,हमें याद है आप का भजन और उसका मर्म ;इश्वर अल्ला तेरो नाम ;; अगर भेष और भाषा बदल कर कोई साजिश भी हो रही है तो उसे हम सफल नहीं होने देंगे बापू | हम खुर्दबीन से देख रहे है गोलवलकर की किताब का भाष्य कहा कहा हो रहा है और उसका रास्ता कहा तय हो रहा है ,,हम ढूढ़ रहे है वो पुस्तके जिनमे तुम्हे हर मारा गया हाउ बापू |
आप विश्राम करिए बापू हम खड़े है उसी तरह जिस तरह गरीब का बेटा खड़ा है सरहद पर की आप के दुश्मनों की फ़ौज चाहे कितना भ्रस्ताचार कर रही है और भर्स्ट व्यापर कर रही है पर वो खड़ा है की बापू के देश पर कोई गन्दी निगाह न पड़े | हम हम खड़े है बापू | हम हम समझ रहे है की हत्यारों के परिवारी जानो द्वारा आपकी तरफ बढ़ना आप को सचमुच बहुत बेचैन किये है पर बापू आप तो अनंत शक्तियों के मालिक हो तभी तो ये पूरी कोशिश कर भी महज आप के शरीर को मार पाए |  कहा मार पाए आप को | आप तो खड़े हो विचारो के साथ पूरी दुनिया में ,जिधर भी ये जाते है आप खड़े दिखाते हो और जिसके यहाँ भी जाते है वो बस आप की ही चर्चा करता है और आप की याद पर जाने को मजबूर करता है | क्या बीतती होगी इन पर बापू ये तो उसी क्षण बिना मौत ही मर जाते होंगे अपनी निगाह में ,अपने दिल में ,| बापू मजबूर हो गए है ये और इनके परिवारी जन आप की तरफ बढ़ने को दुनिया के सामने शर्मिंदगी से बचने को जब तक ये उतने शक्तिशाली न हो जाये की हर इन्सान के दिल से ,देश के कोने कोने से और दुनिया के चप्पे चप्पे से आप को मिटा न दे और ये मुझे तो संभव नहीं दिखता इसलिए बापू अपने विचारो की ताकत पर भरोसा कर आप विश्राम करिए और आपकी आभा पर विश्वास कर हम भी बैठ जाते है पर आँखे खोले हुए और हर पल चौक्कना इनके वार से आप को बचने के लिए |
अच्छा बापू हमें माफ़ करना अब तक के लिए की ३० जानवरों १९४८ को आप से किया वादा हम पूरा नहीं कर पाए की आप की हत्या करने वाली विचारधारा को अब सर नहीं उठाने देंगे | लेकिन हमें और शर्मिदा तो आप नहीं देखना चाहेंगे इसलिए हम पर विश्वास करते हुए अपने जन्मदिन को मनाने दीजिये और आप भी जन्मदिन पर हमरा कृतघ्न प्रणाम स्वीकार करिए बापू |
इन्सान का इन्सान से हो भाईचारा ,यही पैगाम तुम्हारा | तुम्हारे प्रिय नेता जी का नारा ;जय हिन्द |

हमें जीत को ताकत में ,उत्साह को विनम्रता में ,ख़ुशी को और ज्यादा जिम्मेदारी में ढाल लेना होगा ।सर ठंडा और पैर जमीन पर रखना होगा ।तब 2017 भी अपना होगा ।
जब बीजेपी जीत जाती है तो उसका पूरा श्रेय आर एस एस ले जाती है ।
इस चुनाव में संघ दशहरा की छुट्टी पर था या होनोलुलु गया हुआ है ?
प्रधान प्रचारक जी जिस वक्त चीन के राष्ट्रपति भारत के दौरे पर हो उसी वक्त सीमा पर हरकत महज जापान की धरती पर की गयी वो हरकत की जा मैं तेरे साथ नहीं खेलता बल्कि तेरे पडोसी के साथ खेलूँगा का जवाब भी था और उनकी तरफ से चेतावनी भी ।
मेरे विचार से चीन tuch with care की चीज है ।
मैं दिल्ली में बैठा विदेश नीति का विद्वान तो नहीं हूँ जो 52 साल से चीन की समस्या का निदान ढूढ़ रहे है पर देशभक्त नागरिक जरूर हूँ जो देश के साथ फिर 1962 नहीं देखना चाहता ।इस बार हुआ तो बस तबाही होगी ।
आज मैंने रामबारात के अवसर पर जनकपुरी में मुख्य अतिथि के रूप में एक परंपरा का विरोध करते हुए उसे मानने से इनकार कर दिया ।
इन मंचो पर हर बार मंत्रियो और अधिकारियो को अतिथि के रूप में बुला कर सम्मानित किया जाता है ।
इस बार मैं मुख्य अतिथि था तो मैंने इस परंपरा से इंकार करते हुए इस मंच पर माला पहनने और सम्मानित होने से इनकार कर दिया ।
चाहे स्वरुप ही सही पर ये भगवांन का मंच है उस पर भगवान् के आलावा और कोइ कैसे समानित हो सकता है ।मैंने आगे के लिए भी आयोजको से आग्रह किया की ये परंपरा बंद करे ।
कल शाम केंद्रीय मंत्री वालियांन और बीजेपी के नेताओ ने इसी मंच पर मुकुट धारण कर अपना स्वागत करवाया था ।वो लोग राम भक्त है इसलिए ये कर सकते है पर मैं असली राम को जानने और समझने वाला हूँ इसलिए मैंने ये किया ।
अब सही गलत का फैसला तो सचमुच की श्रद्धालु जनता ही कर सकती है ।हे राम हे राम हे राम ।
पता नहीं क्यों मुझे ऐसा लगता है की बाहरी कूड़ा करकट और मैल साफ़ करने से पहले अपने मन की ,आत्मा और दिमाग की मैल साफ़ करना ज्यादा जरूरी है ,क्योकि ये मैल ज्यादा घातक और नुकसानदायक और खतरनाक है ।जय हिन्द ।
प्रधान प्रचारक जी आप अभी तक केवल भाषण कर रहे है और भाषण भी बहुत उथला होता है। अब करना कब शुरू करेंगे ।देश इन्तजार कर रहा है ।
आज भी सयुक्त रास्त्र संघ में अपनी अज्ञानता को छुपाने के लिए ऐसी ऐसी बाते कही जिसमे वहां बैठे हुए लोगो की कोई रूचि नहीं थी ।दिख रहा था की लोग ऊब रहे है ।कही का ईंट कही का रोड़ा टाइप का भाषण था और क्या नागपुर ने आदेश दिया था योग जैसी बाते करने के लिए ।क्या मतलब उन लोगो का ।
भारतीय लोगो को तो ताली बजाना ही था और खत्म होने पर खड़े होकर भी बजाना था ।पर अगर अन्य लोग भी खड़े होते तो बात होती ।
मीडिया के दोस्तों आप लोग तिल का ताड़ बना कर दिखाने की कोशिश कर रहे है और कुछ ऐसा बताने की कोशिश कर रहे है की कुछ अभूतपूर्व हो रहा है ।ये आप की अज्ञानता के कारण है या फिर कुछ और कारण है इसके पीछे ये चर्चा हो रही है अब जनता में ।
आप हवा तो बनाते हो पर उसकी सच्चाई दूसरे लोग खोल देते है अन्य माध्यमो से ।
आप की तथास्थाता तथा विश्वसनीयता भी जरूरी है भारत के लोकतंत्र के लिए प्लीस उसे बचाए रखिये वरना एक खम्भा जनता के लिए बेमायने हो जायेगा ।
और प्रधान प्रचारक जी घूमना फिरना तो बहुत हो गया अब वादे पूरे करने पर भी कुछ समय दीजिये ।और जो बड़ी बड़ी बाते किया था कुछ उसका भी मुजाहिरा हो जाये ।
अब आप के भाषण बोर करने लगे है ।
जयललिता को मिली पूर्ण सजा क्या भारतीय राजनीती को कुछ बदलेगी ?और नेताओ के साथ साथ अधिकारियो के ,इंजीनियरों का ,ठेकेदारों का और दलालों का कार्य कलाप कुछ बदलेगा ?दलाल और छिनाल [ इसका गलत अर्थ न लगाये मेरा मतलब सब कुछ छीन लेने वाले से है धन दौलत और इज्जत भी ] कुछ ज्यादा ही तरक्की कर रहे है |देखते है भाई क्या होता है ,औऊऊऊऊऊ
ये अमेरिका में ताली बजाने वाले और भारत की तर्ज पर नारा लगाने वाले कितने में मिले ? इनको मैनेज करने वाले जो एक महीने पहले से अमेरिका में डेरा डाले है उन भाजपाइयो और संघियों को क्या इनाम मिलेगा और मीडिया में बैठे संघी दोस्तों को कुछ ऊपर से मिल रहा है या नहीं दिवाली गिफ्ट में या कमिटमेंट है नागपुर के प्रति ,,,,अरे वही वाला हस्तिनापुर के सिंहासन से बंधे होने वाला |
समाजवादी पार्टी की सरकार और इसके मुख्यमंत्री अखिलेश यादव बनाम प्रधान प्रचारक --+.
बीजेपी के 100 दिनों के कामों को जनता देखचुकी है और
हमारे युवा हृदय् सम्राट माननीय
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव जी ने दो साल छ:माह में
जो कर दिखाया है वो आज तक किसी भी मुख्यमंत्री ने
नही किया है !
>लैपटॉप वितरण -वादा पूरा किया
>मुफ्त पढ़ाई -वादा पूरा किया
>मुफ्त दवाई -वादा पूरा किया
>मुफ्त सिंचाई -वादा पूरा किया
>मुफ्त इलाज -वादा पूरा किया
>मुफ्त ड्रेस वितरण -वादा पूरा किया
>लायन सफारी -वादा पूरा किया
>किसान कर्ज माफी -वादा पूरा किया
>मुफ्त तीर्थ यात्रा -वादा पूरा किया
>बुनकरों की बिल माफी -वादा पूरा किया
>बेरोजगारी भत्ता -वादा पूरा किया
>साईकिल वितरण -वादा पूरा किया
>शिक्षक भर्ती -प्रक्रिया जारी
>TET भर्ती- प्रक्रिया जारी
>चिकित्सक भर्ती -वादा पूरा किया
>सफाई कर्मी का स्थायीकरण-वादा पूरा किया
>शिक्षा मित्रों समायोजन -वादा पूरा किया
>मेट्रो निर्माण -लखनऊ का कार्य शुरू, कानपुरका DPR
प्रक्रिया में।
>41 हजार अनुदेशक भर्ती किये
>शिक्षामित्र शिक्षक बनाये
सविंदा सफाईकर्मी का वेतन 13600 किया
>महिला सुरक्षा -1090 का सफल आयोजन
>समाजवादी पेंशन योजना -प्रक्रिया जारी
>एंबुलेंस सेवा -वादा पूरा किया
>ग्रीन पार्क स्टेडियम का निर्माण -वादा पूरा किया
>पुलिस भर्ती -रिजल्ट घोषित
>सड़क निर्माण -कार्य शुरू कर दिए गए
>दुग्ध उत्पादन -अमूल्य, अमूल, मदर डेयरी के
कईडेयरी खोल, वादा पूरा किया
>गौ हत्या - प्रतिबंध लगा करवादा पूरा किया
>फसल बीमा योजना -वादा पूरा किया,फसलनुकसान में
दोगुनी राशि का भुगतान
>बैटरी चालित रिक्शा -60000लोगों को वितरण कर
वादा पूरा किया
>दुग्ध उत्पादन में बढ़ोतरी का लक्ष्य - नम्बर
एकहो वादा पूरा किया।
>वैट या कर कटौती -वैट कम कर, कोई
नया करना लगा वादा पूरा किया
>लखनऊ आईटी हब- निर्माण कार्य शुरू,वादा पूरा किया।
>2017 तक 24 घंटे बिजली के लिए प्रयास-यूपी सरकार चार
सबस्टेशन 400
KV 21 सबस्टेशन220KV और 63 सबस्टेशन 132 KV
कैपिसिटी केनिर्माणाधिन है जब कि 10 सबस्टेशन
कमीशनयानि चालू कर दिए गए हैं। आगे के तीन महीनेमें
39और प्राइमरी सबस्टेशन को चालू कर दिएजायेंगे,इस
वित्तीय वर्ष में 40 और सबस्टेशन के
निर्माणका प्रस्ताव रखा है ।1.34 लाख गांवों के
विद्युतिकरण, मीटर,केबलिंग,भूमिगत विद्युतिकरण,
ट्रांसफार्मर के लिएसरकार ने 7282 करोड़ रुपये दिए गए
हैं कार्य चलरहा है ।आपूर्ति सुधार, पावर प्लांट, थर्मल
पावर प्लांटकेनिर्माण, रखरखाव, एवं नये निर्माण के
लिए22000करोड़ रुपये का कार्य प्रगति पर है ।
कई जिलों में सोलर पावर प्लांट के कार्य PPP के तहत
प्रगतिशील हैं ।विधायक निधि में 25 लाख
प्रति वर्षचिकित्सा सहायता के लिये अनिवार्यकिया !
गरीब की सवारी साईकिल को वैट से मुक्त किया ।
20 जिला मुख्यालय प्रराम्भिक चरण में 4 लेंन सड़को से जुड़ रहे है ।
पांच साल पूरा होने तक अधिकतर जिला मुख्यालय 4 लेंन सडको से जुड़ जायेंगे ।
पांच साल पूरा होने से पहले खुद बिजली का 2 हजार मेगावाट उत्पादन शुरू कर देंगे ।
पांच साल पूरा होने तक लखनऊ के साथ कानपूर और शायद आगरा में भी मेट्रो का कार्य शुरू हो जाये ।
2017 तक अधिकतम सड़के बन चुकी होंगी ।
उत्तर प्रदेश सरकार बुजुर्गो को तीर्थ यात्रा करवा रही है मुफ्त
उत्तर प्रदेश सरकार मानसरोवर यात्रियों को पैसा देती है
2017 तक दस लाख से अधिक को रोजगार दे देगी ।
2017 तक कई शहरो सी सी टीवी कैमरे लग जायेंगे और पोलिस का आधुनिकीकरण हो जायेगा
बिजली में हम आत्मनिर्भर हो जायेंगे बशर्ते -
यदि केंद्र सरकार कोयला सप्लाई समय से करे और प्रचुर
मात्रा में करें तो यूपी भी उजाले में जी सकता है
प्रधान प्रचारक ने कहा क्या किया क्या --
100 दिन में महगाई ख़त्म कर दूंगा - बढा दिया
100 दिन में काला धन ले आउंगा - क्या हुआ और कितने पैसे आये
पाकिस्तान एक मरेगा तो हम सौ पर उसने तो कई मार दिए -क्या किया
चीन को मुहतोड़ जवाब हम देंगे - क्या दिया
पूरे देश को बिजली देंग- उत्तर प्रदेश की काट रहे है
कांग्रस मुक्त करना है - सब कांग्रेस के कार्यो का फीता काट कर अपना बताने की कोशिश
कांग्रेस की नीतिया ज्यो की त्यों अपना लिया है ।
आज इतना ही काफी है तुलना करने को ।
समाजवाद और गांधीवाद साथ साथ चलने वाले विचार है समता सम्पन्नता और मानवता के लिए ।
प्रदेश के विकास में भागीदार बने !
हम पेड मीडिया तो नही पर अपने द्वार शेयर कर के
दूसरो को जरूर जागरूक कर सकते है !
जय हिन्द |
संघ वाले राम माधव और कई लोग कई दिनों से अमेरिका में है और मीडिया में घुसे संघियो के साथ मिल कर जो कर रहे है वो सभी देख रहे है ।क्या कभी देखा है आप ने की किसी भी प्रधानमन्त्री और उनकी पार्टी ने या उनके पीछे खड़ी ताकतों ने ऐसा किया है ।क्या ये देश के साथ की गयी वादाखिलाफी और असत्य तथा असफलता से ध्यान हटाना नहीं है ?
दुनिया में रहने वाले प्रधानमंत्री से मिलते है और उनके मुद्दे होते है और ये दिखा भी केवल एक चेनल पर कि विज्ञानं की तरक्की करे ।क्या हम दुबारा भारत आकर रह सकते है ?क्या वहां हमें सभी सुविधाएँ मिलेंगी ? इत्यादि ।
क्या संघ के इरादे के बारे में जो सोचता रहा हूँ वही सब करने की तयारी में है संघ ?
मैं थोडा सहज हुआ था उपचुनावों की इनकी हार से पर अब फिर असहज हो रहा हूँ देश के लोकतंत्र के भविष्य को लेकर ।
भारत के लोगो की नाच गाने ,मेले ,कव्वाली ,,भजन सब अच्छा लगता है और इसी में गम भूल कर राम जाते है इसलिए कोई बात नहीं | वैसे सब होता रहा है और हो रहा है की आप मूल मुद्दों को भूल जाओ ,असंतुस्ट न हो जाओ और चर्चा न शुरू कर दो की किसी ने चुनाव में और उससे पहले क्या क्या कहा था | हो वो सब रहा है जो कभी नहीं कहा था | बाकि आप सभी की मर्जी |
बड़ी पुँरानी कहावत है ;;;थोथा चना बाजे घना ::: जय हिन्द ,,,
क्या अमरीकी जनता में भी बीजेपी का प्रचार हो रहा था ।ऐसी घटना पर सिंगापुर के प्रधानमन्त्री ने वहा की हिंदुस्तानी जनता को कह दिया था की आप सब हिंदुस्तान लौट जाओ पर सिंगापूर में रहना है तो यही का नागरिक बन कर रहो ।दूसरे देश की राजनीती का हिस्सा मत बनो ।
ग्रेटर नॉएडा से होते हुए नॉएडा एक्सटेंशन में सैमसंग के कार्पोरेट ऑफिस में ।क्या ये नॉएडा ,ग्रेटर नॉएडा और यहाँ मौजूद ये सारे ऑफिस और फैक्ट्री प्रधान प्रचारक की देंन है ?
आकर देखिये क्या शानदार है सब और चौड़े नेकर वालो को लगता है की देश में 1947 से कुछ हुआ ही नहीं ।गुजरात में है कोई नॉएडा और ग्रेटर नॉएडा जैसा शहर ।
मेट्रो ट्रेन या तो पिछली सरकारों ने चलाया है या समाजवादी पार्टी सरकार ने चलाया और आगे भी चला रही है ।
बीजेपी की किसी सरकार ने एक भी मेट्रो चलाया हो तो मेरा ज्ञान बढा दीजियेगा ।अरे जो 15 साल में एक मेट्रो नहीं चला पाए वो बुलेट ट्रेन की फेंक रहे है ।
गुजरात में सड़को पर नाव चलना ,उद्घाटन के बाद ही पुलो का गिर पड़ना और दंगे दिख रहे है ये अलग बात है की मीडिया के बजाय सोशल मीडिया पर ।
फेकने वाले हमें भी बता दे की मीडिया को इतना डराया कैसे है ? या सब व्यापार के भ्रस्ताचार की --
चलिए समय ने सबका न्याय किया है ।झूठ के पांव नहीं होते ये सुना था पर ये भी सत्य है की जनता झूठ को किनारे तक पहुंचा कर रहती है ।
जय हिन्द ।
जरा चुनाव आयोग स्पष्ट कर दे की क्या सचमुच 125 करोड़ लोगो ने किसी को प्रधान प्रचारक चुना है ? या संख्या कुछ घटने की गुंजाईश है ? और कुल वोटर कितने है ?
अमरीका में तो सच ही बोला होगा ।क्योकि वही की वही वोबामा वाली एजेंसी ने चुनाव से लेकर पाच साल आगे तक का ठेका लिया है प्रचार और ब्रांडिंग का ।
कुछ समझ ????
आजकल डमरू बजाने वाले कही दिख नहीं रहे है सडको पर ,,पता नहीं कहा गायब हो गए है ,,,उनके डमरू पर इकट्ठे होने वाले लोग भी | डमरू वालो ने शक्ल और पेशा बदल लिया क्या ???
जब इंग्लैण्ड सहित कई देशो के राजाओ के बच्चो का भी फ़ौज में कुछ दिन केवल नौकरी करना नहीं बल्कि सीमा और युद्ध में जाना भी अनिवार्य है तो भारत में सभी नेताओ ,,अधिकारियो ,,इंजीनियरों ,,ठेकेदारों ,,और पूजीपतियो से पहले शुरू कर और बाकि लोगो की इच्छानुसार ऐसा अनिवार्य क्यों न हो ,,,मैंने तो अपने इकलौते बेटे को भेजा था पर अभी तक के दो प्रयास में भी उसका चयन नहीं हुआ ,,,पहले खुद और बेटे को भेजने के बाद ये विचार दे रहा हूँ |
क्या विचार है आप सभी का और वर्तमान पुलिस वालो का तीन साल में एक बार ६ महीने के लिए सीमा पर जाना अनिवार्य हो |
मेरे नेताओ ने रटाया था की एक पल की सम्मान की जिंदगी सौ साल के अपमान की जिंदगी से बेहतर होती है | क्या ये सच है ?? क्या उसके बाद जिंदगी का कोई मतलब नहीं ??? या कृष्ण ने कहां था अपमान होने पर ;;;
रे दुर्योधन मैं जाता हूँ
तुझको संकल्प सुनाता हूँ
याचना नहीं अब रण होगा
ये रण बड़ा भीषण होगा
दुर्योधन तू भूशाई होगा
हिंसा का उत्तरदायी होगा

ये भी रास्ता है
और रस्त्र्कवि दिनकर ने जयप्रकाश आन्दोलन में कहा था --
कुर्सी खली करो की जनता आती है
और मैंने देखा है की फ़कीर बन कर सड़क पर उतर जाओ
सड़क तुम्हारी हो जाती है और सड़क तथा खेत खलिहान के लोग भी ,,
ये जज्बा भी पैदा किया जा सकता है ,,,,
जो तथस्थ है समय लिखेगा उनका भी इतिहास .....
एक जीत क्या मिल गयी की ये कहने लगना की की देश में आज से पहले सब बहुत बुरा था और जो भी व्यवस्था में रहे सब बहुत बुरे थे ,,पहली बार कोई आसमानी खुदा आया है ,,क्या दुनिया के किसी नेता ने विदेश में जाकर कभी ऐसा कहा है ? क्या देश इससे सहमत है ? और क्या इससे दुनिया को अच्छा सन्देश जा रहा है ?
क्या ये ठीक है ? अपने ही देश का आज़ादी के बाद के पूरे समय का मजाक उडाना क्या कही आज़ादी की लडाई में गद्दारी करने वाले संगठन का कोई छुपा कार्यक्रम का हिस्सा है ?
ये कहना की देश में बहुत हुआ है और अब नया क्या क्या हो रहा है तथा क्या सम्भावनाये है वो तो ठीक था पर ,,,खुद को चमकाने को बाकि सबको गिरा देना ये नयी राजनीती है और मेरी बात याद राखी जाये ,,,मैंने कहा था १६ मई को की देश एक अहंकारी को पा रहा है तो फिर मेरा दावा है की असफलतम प्रधानमंत्री को देखने जा रहा है और अब मेरा विचार और पक्का होता जा रहा है |
अगर आप फकीरी को लेकर सड़क पर निकल जाओ तो सड़क क्या दुनिया आप की है और आप जैसे सभी आप के साथ काफिला बना लेते है ।
बस इरादा मजबूत कर निकलने की देरी है ।
दोस्तों मैं अपनी वाल पर जो भी लिखता हूँ वो मेरे विचार होते है ।वो मेरे समर्थको के लिए होते है या तटस्थ लोगो के लिए ।
मैं आप में से किसी को टैग नहीं करता हूँ की मुझे पढना आप की मजबूरी हो और मैं आपसे कमेन्ट की अपेक्षा कर रहा हूँ ।
मैं संघियों के लिए तो कतई नहीं लिखता हूँ ,न किसी संघी की वाल पर या बीजेपी के किसी की वाल पर जाकर कोई कमेन्ट करता हूँ ।
इसे आप सभी मेरा अपना अभियान समझ ले जिससे आप सहमत नहीं है तो न तो पढ़िए और न कुछ लिखिए ।
अन्ना और केजरीवाल आन्दोलन तथा रामदेव यादव के प्रकरण में भी काफी लोग मेरी काफी आलोचना कर चुके और काफी गलियां दिया था और फिर अंतिम सच सामने आने पर पूर्ण मौन हो गए ।एक बार खेद ही व्यक्त कर दिया होता ।
प्रधान प्रचारक के मामले में तो काफी धमकिया भी मिल चुकी है क्योकि ये सीधे सीधे फासीवादियो का मामला है ।इसका अंतिम सत्य भी देखेंगे ।
आपातकाल का आतंक और तब कांग्रेसियों का रौद्र रूप भी देखा था और उनका परिणाम भी देखा ।
कुल मिला कर ये है की देश मेरे लिए दल का नहीं बल्कि दिल का सवाल है और दिल में भावनाएं होती है तथा दिमाग और अनुभव भी जुडा हो तो जिम्मेदार विचार और अभिव्यक्ति भी साथ होती है ।
बहुत से मामलों में मैं जिनके साथ खड़ा हूँ उनके ख़िलाफ़ भी अभिव्यक्ति दे चूका हूँ और देता रहता हूँ ।जिसका खामियाजा भी उठाया है
आप भारतीय हिटलर के समर्थक हो सकते हो पर मुझ पर हिटलर को थोप नहीं सकते ।मैं चाहे अकेला हूँ पर अपना कर्त्तव्य निभाता रहूँगा ।
उम्मीद है की आप भारत में फासीवाद को मजबूत करते हुए और एक व्यक्ति को हिटलर में तब्दील करते हुए खुश होंगे पर मुझे भारत की आज़ादी और लोकतंत्र की लड़ाई लड़ने से नहीं रोकेंगे ।
अब भी आप को निराशा ही हाथ लगेगी ।इश्वर से प्रार्थना है की महा मानव के बजाय कुछ लोगो को सचमुच में मानव ही बना दे अहंकार विहीन ,हिंसा और तानाशाही विहीन मानव और उनकी मतिभ्रम को ख़त्म कर उन्हें महान भारत की सेवा की तरफ प्रेरित करे जिसकी आजादी में फासीवादियो का कोई सहयोग नहीं था बल्कि गद्दारी से इतिहास भरा है तो अब कम से कम आज़ाद भारत के वाशिंदो की पीठ में छुरा न घोपे और आज़ादी तथा लोकतंत्र को रौंदने की कोशिश न करे ।और मेरा नारा है -- जय हिन्द ।
हिन्दोस्तान के बारे में और हिन्दोस्तानियो के बारे में एक बात सभी समझ ले ।
हाँ हिन्दोस्तानियो को चाहिए --
रोटी ----- कपड़ा ----मकान ---- गाड़ी ---- शिक्षा ----चिकित्सा ।सब कुछ चाहिए जो दुनिया में किसी के भी पास है ।
पर उसे सबसे साथ हर हाल में चाहिए ----
आज़ादी और उन्मुक्त हंसी ।

जो ये छीनने की कोशिश करेगा उसे हिन्दोस्तानी सबक सिखा कर अपनी आज़ादी और उन्मुक्त हंसी छीनना जानता है ।
मेरी कॉम को देश का सलाम ।
बेटियों की कोख में हत्या करने वालो जरा गिन कर देखो की पिछले खेलो से लेकर इस एशियाई खेलो तक देश का आप का सर ऊँचा करने वालो में बेटियां कितनी है ?
पदक जीतने वाले सभी को और विशेषकर बेटियों को मेरे नेता मुलायम सिंह यादव् ,मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ,समाजवादी पार्टी और मेरी तरफ से ढेरो बधाइयाँ ,शुभकामनायें और भविष्य के लिए मंगल कामना की ओलम्पिक में भी आप सभी देश का नाम बढ़ाये । जय हिन्द ।
फेकने वालो और मीडिया में दिन रात असत्य बोलने वालो मैं भी ढूढ़ रहा हूँ तुममे थोड़ी नैतिकता हो तो नेहरु जी ,शास्त्री जी ,इंदिरा गाँधी की फोटो भी दिखाओ और वीडियो जब वो दौरों पर गए तथा मुलायम सिंह यादव जब रक्षा मंत्री के रूप में रूस गए थे और पुतिन ने उनका स्वागत किया था जरा वो भी दिखाओ ।
पर ये सिद्ध करने की कोशिश की भारत में पहले सब बुरा था और कुछ नहीं हुआ तथा अब कोइ देवता आ गया है या देश को ये बताना की पहले दुनिया में भारत की कोई कीमत नहीं थी ये तुम्हारी बेईमानी है ।
अज्ञानी भर गए है मीडिया में या जान बूझ कर नागपुरी एजेंडे के तहत पीछे का सब मिटा कर नया इतिहास लिख रहे है तो अलग बात वर्ना दो धुरी वाले विश्व को नेहरु ,टीटो और नासिर की तिकड़ी ने गुट निरपेक्ष देशो को सौ से ज्यादा देश साथ लाकर चुनौती दिया था ।
इतिहास और भूगोल बदलने का काम किया था इंदिरा गाँधी ने किया और अमेरिका आकर खड़ा हो गया हिंद महासागर में पर परवाह नहीं किया और जो करना था कर के ही मानी ।
देश में अन्न का आभाव था तब जय जवान जय किसान के शास्त्री जी के नारे ने हालत बदल दिया और उसे कहते है जन नेता की आह्वान किया जनता से एक समय का अन्न छोड़ने का तो करोडो ने अन्न त्याग दिया था और हरित क्रांति ने हमें दूसरो को अन्न दान देने लायक बना दिया ।
संघी विरोध कर रहे थे कंप्यूटर का पर तत्कालीन प्रधान मंत्री लाये और आज उसी के कारण दुनिया में हमारा डंका बज रहा ।रोजगार भी मिला और तरक्की भी हुयी ।आई टी उद्योग लाये तत्कालीन प्रधान मंत्री और भारत खुद तरक्की करने के साथ दुनिया में छा गया ।
अमेरिका सहित कई देशो की तरह दिवालिया होने की कगार पर पहुँच गया था देश पर नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह न उसे पटरी पर लाये बल्कि दोनों के योगदान ने आज भारत की चौथी आर्थिक ताकत बना दिया तब आज किसी का स्वागत हो रहा है ।
नेहरु से शुरू कर सभी ने किया किसी ने नीव रखी तो किसी ने ईमारत को खड़ा किया ।किसी ने योजना बनायीं तो इन्दिरा ने दुनिया की परवाह न करते हुए परमाणु विस्फोट किया और आज हम परमाणु ताकत है ।नरसिम्हा राव् ने तैयार किया था पर परीक्षण नहीं हो पाया था तैयारी होंने के बावजूद क्योकि वो देश की अर्थव्यवस्था सुधार रहे थे पर डॉ कलाम ने खुद बताया की वाजपेयी जी को नरसिम्हा राव ने कहा था की तैयारी है परमाणु परीक्षण कर ले तब हुआ था ।पर नकली सम्मान बनाने वालो की तरह जो दूसरो के किये पर अपना नाम और मुहर लगा कर अपना बना देते है उसके आलावा क्या किया बीजेपी ने ।
याद रखना चाहिए की मुलायम सिंह यादव वो पहले रक्षा मंत्री थे जिनके समय उनके तेवर देख कर केवल एक हेलिकोप्टर की घटना जिस पर उन्हों एक छोटा आक्रमण ही कर दिया था पाकिस्तान पर फिर कभी गोली नहीं चली सीमा पार से ,न कोई घुसपैठ हुयी और न कोई आतंकवादी घटना हुयी और न चीन ने कोई हरकत किया ।
गैर कांग्रेस सबसे अच्छा शासन जनता पार्टी का था ।ये शासन आपातकाल के कोख से पैदा हुआ था पर देश ने संघ के कारण उसे खो दिया ।
दूसरी आज़ादी की लड़ाई से निकले हुए और जेल के दरवाजो से निकल कर शपथ लेने वाले इस दूसरे शासन में भी बीजेपी और इसके लोग बेईमान निकले ।बीजेपी तत्कालीन जनसंघ के कोटे से देश के उद्योग मंत्री बने थे वर्मा जी और उस आदर्श शासन में उन्होंने घूस खा लिया ।मोरारजी भाई उन्हें मंत्रिमंडल से निकालने लगे तो पूरी जनसंघ ये दुहाई देकर की पूरी सरकार और खासकर जनसंघ की बदनामी होगी उनसे पैसे लौटवाये पर उस वक्त के सबसे मह्त्वपूर्ण मंत्रालय से उन्हें हटा कर मोरारजी भाई ने ये मंत्रालय जोर्ज फर्नाडीस को दे दिया ।
प्रदेशो में भ्रस्ताचार कर रहे जन्संघियो पर जब चौ चरण सिंह ने तेवर दिखाए तो जनता पार्टी के भीतर बैठे संघियों ने सबसे बड़ी संख्या में जीत कर आये लोकदल और समजवादियों के खिलाफ साजिश कर प्रदेशो में सरकारे गिराने का षड़यंत्र किया ।
संघ और जनता पार्टी की दोहरी सदस्यता के सवाल पर दूसरी आज़ादी की कोख से निकली सरकार जो आदर्श काम कर रही थी गिर गयी ।
आप लोग ही थे जिन्होंने अतंकवादियो को कंधार पहुचाया और करोडो रूपये के साथ की उस पैसे से वो भारत पर हमला करे ।आप ही के समय कारगिल में दुश्मन घुस गया और आप नौटंकी करते रहे कभी बस यात्रा की और कभी मुशर्रफ को बिरयानी खिलाते रहे ।आप सोते रहे और दुश्मन संसद में पहुच गया ।सबसे ज्यादा आतंकी घटनाएं आप के समय हुयी और गरीब जवानों ने अपनी जाने देकर बचाया ।इसमें कही जमाखोरी ,मुनाफाखोरी और मिलावटखोरी करने वाले आप के किसी समर्थक के बच्चे का तो खून नहीं बहां और न किसी अदानी या अम्बानी का ही कोई योगदान दिखा ।इस देश में आप लोगो की विचारधारा और संगठन का योगदान क्या है देश का पेट किसान भरता है और आप उसकी उपज सस्ते में खरीद कर उसे महंगा सामान देते हो ।देश की रक्षा जवान करता है और आप उसके ताबूत में भी घूस खा जाते हो ।देश को मजदूर बनाता है और उसका शोषण तो करते ही थे अब उसे गुलाम बनाने के कानून वना रहे हो ।वाकी सारे काम और तरक्की खुद मेहनत कर आई टी से मनेजमेंट और विज्ञानं तक भी हमारे गरीब या माध्यम घरो के नैजवान करते है और आप की मिलावाटखोरी जहा उन्हें रोग दे रही है वही मुनाफाखोरी उनके जीवन को दूभर बना रही है ।वाकी आप के द्वारा बांटी गयी नफरत और आप के द्वारा कराये गए दंगो ने सबके किये को काफी पीछे कर दिया है ।अभी तक का तो कुल जोड़ घटाना इतना ही दिख रहा है आप का ।
ये बहुत थोडा लिखा है ।लगातार असत्य बोल कर बड़ी बड़ी बाते कर के केवल भ्रस्ताचार की कीचड में धंसे हुए लोगो ने अब तरीका बदल दिया है ।अब खुद संपत्ति रखने के स्थान पर पूंजीपतियों की सम्पत्ति बढा कर उसमे हिस्सेदार हो गए और देश के चुनाव को इतना महगा कर दिया की चुनाव लोकतंत्र पर बोझ बन जायेगा ।
खैर अब देश देख रखा है तरक्की की बड़ोदरा में सड़क पर नाव चल गयी तो क्या हुआ दुनिया आदर्श ड्रेनेज का ? कई दिन से बड़ोदरा जल रहा है ।जिन पुलो को साहेब ने बनाया उसमे से कई अभी गिरे है ।सफाई ऐसी की की चीन के रास्त्रपति से छुपाने के लिए मीलो लम्बी सड़क पर हरे कपड़ो की बाड़ लगानी पड़ी ।
शपथ में पाकिस्तान को बुला भेंट का आदान प्रदान किया और गिफ्ट में लाशे मिलने लगी ।चीन के साथ बढ़ा चढ़ा कर बाते की और चीन उसी समय घुस कर बैठ गया तथा अब हिन्द महासागर में डेरा डालने आ गया ।
तो मान्यवर हर घंटे कपडे बदलना आप का व्यतिगत मामला है तथा आप गरीबी से आये है और गरीब के लिए काम के रहे है तो गरीबी का मजाक मत उड़ाइए ।भूखा रहना आप का व्यक्तिगत मामला है इसका दुनिया के सामने तमाशा मत बनाइये ।आप बडबोले और अहंकारी है तो रहिये पर भारत आप का नहीं बल्कि 125 करोड़ लोगो का है और 125 करोड़ लोग अहंकार से घृणा करते है उन्हें दुनिया के सामने अहंकारी मत सिद्ध करिए ।आप के कोई विचार हो सकते है पर जैसे आप नहीं चाहते की भारत का कोई नागरिक दुनिया के किसी दूसरे देश का नारा न लगाये तो प्रधानमन्त्री पद का दुरूपयोग कर दूसरे देश में बसे भारतीय लोगो को वहां की जनता की निगाह में गद्दार मत बनाइये ।आप को खूब और कुछ भी बोलने का शौक है तो उसके लिए आप का पार्टी फोरम है तथा हर कुछ महीने में कही न कही चुनाव आने है खूब बोलिए ।
आप को सभी को नीचा दिखाने का शौक है तो वो आप अपने घर और अपनी पार्टी में ही पहले पूरा कर लीजिये पर मेरे देश को या देश के महान लोगो के बारे में दुनिया के सामने गलत मत बोलिए इससे हम 125 करोड़ लोगो को गुस्सा आता है ।
और आप को केवल 29 % लोगो ने चुना था और उसमे से काफी लोगो ने बाद में अपना पछतावा भी दिखा दिया तो 71 % लोगो पर अपनी महत्वाकांक्षा मत थोपिये ।
मुझे लगता है की आइना दिखाने को इतना ही काफी है ।और अब मेरे साथ ये देश उम्मीद करता है की हमारी खून पसीने की कमाई किसी देश में गाने बजाने और इवेंट मैनेजमेंट में मत बहाइये ।
आप प्रधान प्रचारक है तो देश के काम से जाइये और इस एहसास के साथ जाइये की देश ने आप को कहा से कहा पहुंचा दिया ।पर देश को और उसकी साख को प्रयोग के लिए और अपनी पिछली तस्वीर को धोकर महान बनने के लिए मत इस्तेमाल करिए ।
जय हिन्द ।